Sunday, May 26, 2024
-Advertisement-
HomeCrimeFinancial fraud :विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर 50 लोगों से...

Financial fraud :विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर 50 लोगों से लाखों की ठगी, आखिर में क्यो पुलिस नहीं दर्ज कर रही एफआइआर

- Advertisement -

Financial fraud :विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर 50 लोगों से लाखों की ठगी, आखिर में क्यो पुलिस नहीं दर्ज कर रही एफआइआर

Financial fraud:विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर 50 से अधिक लोगों के साथ लाखों रुपये की ठगी का मामला सामने आया है।

पीड़ित शिकायत लेकर गाजीपुर थाने के चक्कर लगा रहे हैं।

- Advertisement -

तहरीर लेने के बाद भी अब तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। पिछले तीन दिनों से

- Advertisement -

पीड़ित इंसाफ पाने के लिए भटक रहे हैं, लेकिन पुलिस चुप्पी साधे बैठी है।

एजेंसी संचालक कार्यालय बंद कर फरार हो गए हैं। आरोप है कि गाजीपुर पुलिस ने अब तक मुकदमा दर्ज नहीं किया है।

लेखराज मेट्रो स्टेशन के पास सहारा शापिंग सेंटर में न्यू स्काई लाइन एजेंसी के संचालकों पर लोगों ने

फर्जीवाड़ा कर नौकरी लगाने के नाम पर प्रति व्यक्ति 50 हजार से एक लाख रुपये तक ऐंठने का आरोप लगाया है।

बिहार, पटना, कोलकाता, कर्नाटक समेत अन्य राज्यों के लोग ठगी का शिकार हुए हैं।

बलिया निवासी दुर्गेश ने बताया कि मई में इंटरनेट मीडिया के जरिए आरोपितों ने सिंगापुर में नौकरी लगवाने का

विज्ञापन दिया था। आरोपितों से संपर्क करने पर उन्होंने एक लाख रुपये की मांग की।

हामी भरने पर आरोपितों ने मेडिकल और फिटनेस के नाम पर पहले 30 हजार रुपये लिए,

इसके बाद दस्तावेजों को जांच के लिए मंगवाया। इसके बाद आफर लेटर के नाम पर 16 अगस्त को 30 हजार

और वीजा बनवाने के लिए 19 अगस्त को 20 हजार रुपये ट्रांसफर कराए।

इस तरह से आरोपितों ने कुल 80 हजार ऐंठ लिए। इंस्पेक्टर गाजीपुर मनोज मिश्र के मुताबिक मंगलवार को

मामला संज्ञान में आया है। शिकायत के आधार पर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

किन-किन लोगों से कितने रुपये की ठगी हुई है, इसका पता भी लगाया जाएगा।

वाट्सएप पर भेजा सिंगापुर का टिकट :

गाजीपुर थाने में पहुंचे पीड़ितों ने बताया कि आरोपितों ने टिकट कराने के बाद व्हाट्सएप पर

दिल्ली से सिंगापुर जाने का टिकट भेजा। शनिवार को पीड़ित जब दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे तो

टिकट कैंसिल होने का पता चला। पीड़ितों ने एजेंसी के संचालकों से संपर्क करने की कोशिश की,

लेकिन आरोपितों का नंबर बंद जा रहा था। रविवार को सभी पीड़ित लेखराज आफिस पहुंचे तो उन्हें वहां ताला

बंद मिला। इसके बाद गाजीपुर थाने में शिकायत की, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई।

Ajay Sharmahttp://computersjagat.com
Indian Journalist. Resident of Kushinagar district (UP). Editor in Chief of Computer Jagat daily and fortnightly newspaper. Contact via mail computerjagat.news@gmail.com
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular